भारत के कॉल सेंटर वालो की ज़िन्दगी का सच!

भारत को दुनियाभर में बीपीओ (बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग) का हब कहा जाता है, लेकिन यहां काम करने वाले भारतीयों को नस्लभेदी टिप्पणियों और गालियों का सामना करना पड़ता है। इससे ज़्यादातर लोग तनाव में रहते हैं।
बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग सेंटर्स इन इंडिया के सर्वे के अनुसार, ‘अमेरिकी तो उन्हें नौकरी चोरी करने वाला भी कहते हैं।’ ये मामले ज़्यादातर उन कॉल सेंटर्स में होते है जो विदेश फ़ोन करते हैं और टेलीमार्केटिंग करते हैं। इस रिपोर्ट को ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ कैंट की श्वेता ‘राजन-रेनकिन’ ने तैयार किया है। 2010 से 2012 तक संचालित कॉल सेंटर्स पर आधारित यह सर्वे इस महीने की शुरुआत में जारी किया गया।
उनके अनुसार, पश्चिमी देशों के लोगों का रवैया भारतीय बीपीओ कर्मियों को लेकर बहुत रुखा रहता है। कॉल करने वाले को भारतीय जानते ही ये लोग उसे बुरा-भला बोलते हैं। कई बार इन्हें नस्लभेदी टिप्पणियों का सामना करना पड़ता है।

शायद आपको ये भी अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक